Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हायकु मुक्तक-पिता

असरदार।
बच्चों का वफादार।
है कामदार।

पिता का प्यार।
अनमोल बहार।
घर संसार।

तर्क की युक्ति।
पत्नी की अनूभूति।
सहानूभूति।

सहता वार।
अनुशासित प्यार।
सबका यार।
डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लखनऊ।

10 Likes · 12 Comments · 121 Views
You may also like:
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
दिया
Anamika Singh
भ्रम है पाला
Dr. Alpa H. Amin
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
"अशांत" शेखर
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
मेहनत
Arjun Chauhan
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
अप्सरा
Nafa writer
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
Loading...