Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 10, 2022 · 1 min read

हाथ में खंजर लिए

गीत…. हाथ में खंजर लिए

हाथ में खंजर लिए हिंसा कराना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।

स्वर्ग-सी धरती हमारी राग रंगत से भरी।
और रहती है सुवासित हर्ष पुष्पों से हरी।।
उर्वरा इस भूमि को बंजर बनाना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।।

दिव्यता से पूर्ण है पावन धरा संसार में।
शांति का संदेश देती सत्यता आचार में।।
सौम्यता उत्कर्ष से नीचे गिराना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।।

पा रहे हर लोग है सुविधा सुरक्षा देश में।
रह रहे अपने तरीके से सभी हर वेश में।।
धर्म भाषा जातियों में हैं लड़ाना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।।

टूट जाये सभ्यता सद्भाव की डोरी बधी।
काटने को छोड़ते हैं तीर विष बैरी सधी।।
एकता उल्लास अन्तर्मन मिटाना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।।

हाथ में खंजर लिए हिंसा कराना चाहते।
कौन हैं जो देश को मेरे जलाना चाहते।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

2 Likes · 1 Comment · 53 Views
You may also like:
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
निशां मिट गए हैं।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
कितने रूप तुम्हारे देखे
Shivkumar Bilagrami
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
कुछ दुआ का
Dr fauzia Naseem shad
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
दिल में चुभती हुई
Dr fauzia Naseem shad
तुम बहुत खूबसूरत हो
Anamika Singh
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोषस्य ज्ञानं निर्दोषं एव भवति
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
भारत माँ से प्यार
Swami Ganganiya
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
विश्वास
Harshvardhan "आवारा"
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
✍️अपनों के दाँव थे✍️
'अशांत' शेखर
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
Loading...