Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 16, 2016 · 1 min read

हाथ में इक खत पुराना आ गया।

हाथ में इक खत पुराना आ गया।
याद फिर गुजरा जमाना आ गया।। 1

प्यार से देखा उन्होने जब हमें।
तो हमें भी मुस्कुराना आ गया।। 2

जल गया सारा शहर तकरीर से।
सोचिये! कैसा जमाना आ गया।। 3

हो गया नेता बडा़ वो ही जिसे।
धर्म से मजहब लडा़ना आ गया।। 4

देखकर उनकी गली मे अब मुझे।
लोग कहते हैं दिवाना आ गया।। 5

देखकर हालत जमाने की मुझे।
दर्द को दिल में छुपाना आ गया।।6

कल तलक जो आम थे अब खास हैं।
अब बहाना भी बनाना आ गया।। 7

चांद तारे शर्म से सब छुप गये।
जब उन्हे सजना सजाना आ गया।। 8

हो गया महबूब मेरा भी जवां।
अब उसे भी दिल चुराना आ गया।। 9

गैर कोई अब मुझे दिखता नहीं।
“दीप” दिल का अब जलाना आ गया।। 10

प्रदीप कुमार

1 Like · 1 Comment · 157 Views
You may also like:
आदर्श पिता
Sahil
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Aruna Dogra Sharma
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
धन्य है पिता
Anil Kumar
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
# पिता ...
Chinta netam " मन "
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...