Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 27, 2017 · 1 min read

हाथ धर दो

मौन मन में बात कुछ आती नहीं
बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ धर दो।

मौन बेला ना खलेगी ज़िन्दगी की
प्रगति के शिखर पर कदम यूँ बढ़ते रहेंगे
कड़वी दवा सा सर्द भी मीठा लगेगा
बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ धर दो।

ज़िन्दगी आसान सी हो जाएगी
गम के बादल झट यूँ ही छँट जाएँगे
साँस लेना सीख लूँगा मैं और हाँ वो धड़कनें भी
बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ धर दो।

दुःख के बढ़ते मित्र सब जाने लगे
बेवजह बस यूँ ही समझाने लगे
मन समझना चाहता कुछ भी नहीं
बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ धर दो।

मौन मन को बात कुछ भाती नहीं
बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ धर दो।
~~~अनिल कुमार मिश्र

197 Views
You may also like:
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
दर्द
अनामिका सिंह
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Shankar J aanjna
पिता
Buddha Prakash
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
"अशांत" शेखर
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
✍️हौंसला जवाँ उठा है✍️
"अशांत" शेखर
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
✍️रूह-ए-इँसा✍️
"अशांत" शेखर
गुणगान क्यों
spshukla09179
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
वक़्त
Mahendra Rai
मुखौटा
अनामिका सिंह
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
धुँध
Rekha Drolia
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
Loading...