Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 28, 2021 · 1 min read

हाइकु

हाइकु
संस्कार
********
खो रहा देखो
संस्कार मर रहा
संभल जाओ।
^^^^^
आधुनिकता
लीलती ही जा रही
निज संस्कार
^^^^^
दिखावा करे
आधुनिक बनता
संस्कार खोता।
^^^^^
आज की शिक्षा
नहीं दे पा रही है
संस्कार दीक्षा।
^^^^^
माता पिता भी
खुद भूल रहे हैं
बच्चे न दोषी।
^^^^^
मानसिकता
समाज का दूषित
दोष किसका ।
^^^^^
संस्कारहीन
समाज में पूजित
विडंबना है।
^^^^^
◆ सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा, उ.प्र.
8115285921
©मौलिक, स्वरचित

2 Likes · 1 Comment · 216 Views
You may also like:
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
नया सपना
Kanchan Khanna
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कभी तो तुम मिलने आया करो
Ram Krishan Rastogi
दिल से निकली बात
shabina. Naaz
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
नवगीत
Sushila Joshi
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️रूह-ए-इँसा✍️
'अशांत' शेखर
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
आलीशान
साहित्य गौरव
कल की फिक्र को छोड़ कर
Dr fauzia Naseem shad
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
डूबती कश्ती को साहिल दे।
Taj Mohammad
✍️✍️भोंगे✍️✍️
'अशांत' शेखर
पानी का दर्द
Anamika Singh
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हक़ीक़त न पूछिए
Dr fauzia Naseem shad
अक्स।
Taj Mohammad
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...