हाइकु

1-?त्याग से चलें
मिठास से हैं पलें
रिस्ते यूँ खिलें

2-?ये आचरण
हो सम संचरण
अनुकरण

3-?मैला भी दुखी
मन अकेला भी दुखी
मिले तो सुखी

4-?तप्त ये धरा
जीवन संकट से
संघर्ष खरा

5-?ऊँचे पर्वत
उठने का संकेत
चेतन चेत

6-?खिला गुलाब
काँटों की सेज पर
हो लाज़वाब

7-?पेट की आग
करती मन नाग
ले पर भाग

8-?विचार खाद
तुच्छ कृमि को मार
तरु-सुधार

9-?मौन का तप
फूलों-सा ये असर
रंग बू जप

10-?काम हों कम
सलाह हों अनेक
कैसा है दम

आर.एस.प्रीतम

2 Likes · 152 Views
You may also like:
अभिलाषा
Anamika Singh
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H.
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
शिव शम्भु
Anamika Singh
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
शेर राजा
Buddha Prakash
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
बदलती परम्परा
Anamika Singh
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
पापा
Kanchan Khanna
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...