Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हाइकु

✍??प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

  हाइकु

प्रीत की डोरी
मजबूत रखना
उर जोड़ती ।
   ●●
मन का मृग
ईश्वर की तलाश
कस्तूरी चाँद ।
   ●●
साँसों में हिन्दी
मिट्टी की है सौरभ
गौरव हिन्दी ।
   ●●
स्वयं को तोल ।
तराज़ू बताएगा
सच का मोल । 
   ●●
चली कुल्हाड़ी
ठूँठ पे बैठी पाखी
देती गवाही ।
   ●●
मृग नादान
कस्तूरी की तलाश
गँवाया प्राण ।
  ●●●●

✍?©?प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
   साँकरा, जि-रायगढ़ (छ.ग.)
     Mob. 7828104111
   

236 Views
You may also like:
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Manisha Manjari
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...