Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हाइकु मंजूषा

हाइकु मंजूषा में रचनाकारों को प्रकाशित करने का उद्यम
——————————————————————–
समकालीन हाइकु

1. डॉ. रमाकान्त श्रीवास्तव

बजती कहीं
छिपी पंख बाँसुरी
गूँजे अरण्य ।

लगे साँकल
पथ के पग रुके
लक्ष्य विफल ।

चाँदनी स्नात
विजन में डोलता
मन्द सुवात ।

फूलो जो खिले
बहार सज गयी
दुल्हन जैसी ।

2 डॉ. राजेन्द्र बहादुर सिंह
पवन संग
नाचते गाते पौधे
उर उमंग ।

स्वार्थ की नदी
अपने में समेटे
सदी की सदी ।

लू के थपेड़े
लगते तन में ज्यों
गरम कोड़े ।

मंगलामुखी
ऊपर से प्रसन्न
मन से दुखी ।

3. सत्यप्रकाश त्रिवेदी

जीवन जीना
विसंगतियों में है
गरल पीना ।

हुआ बेदर्द
जमाने ने दिया है
अनेखा दर्द ।

विवश नारी
जीवन की डगर
खोजती फिरी ।

बेटे का लोभ
छीन लिया बेटी को
जन्म से पूर्व ।

4. डॉ. राजेन जयपुरिया

कारी बदरी
बरसी, बह गई
कोरी-गगरी ।

उड़े तीतर
खड़-खड़ संगीत
डूबा पीपर ।

कनखियों से
हेर गये साजन
झरे सावन ।

द्वार का नीम
बन गया हकीम
रोग ना झाँके ।

5. डॉ. रामनारायण पटेल

शिला कंधों से
ढो रहा दिनकर
थका, लुढ़का ।

अदृश्यलय
भीतर सुनता हूँ
मैं न मेरा हूँ ।

मेघ की पाती
चातक चोंच छुए
प्रेम-अर्पण ।

काश ! मिटता
दरार पड़े हिम
राम-रहीम ।

6. मुकेश रावल

खुली खिड़की
प्रकृतिका सौन्दर्य
चमका सूर्य ।

आँखों के मोती
देखकर पाया था
अपनापन ।

अकेला घड़ा
पनघट की याद
निभाती साथ ।

तुम नहीं तो
चूड़ियों की खनक
संगीत चुप ।

7. डॉ. भगवतशरण अग्रवाल

टूटे अक्षर
गहराये सन्नाटे
काँपते हाथ ।

पंख बिना भी
उड़ती रही आयु
धरती पै ही ।

देखा औ सुना
पढ़, भोगा और गुना
काम न आया ।

स्वार्थ के लिए
रिश्ते बाँधते हम
पत्थरों से भी ।

8. मनोज सोनकर

यादें विपक्ष
सुने नहीं दलील
शोर में दक्ष ।

बाज न आए
मदमस्त बाजरा
सूँड हिलाये ।

राजा तो हटे
ससके कुरसियाँ
वंश आ उठे ।

टूटन बड़ी
सफर बड़ा लंबा
सामने अड़ी ।

9. प्रो. आदित्य प्रताप सिंह

हँसता जन्मा
रोता सानंद जिया
हँसता गया ।

यह वजूद
पकड़ते रहिए
पारे की बूँद ।

मौन घाटियाँ
उल्टी सीधी पल्थियाँ
निकट… दूर…।

हिम में कूक…
कहाँ ? प्रिया कंठ में…
गर्म हवा रे ।

10. नरेन्द्र सिंह सिसोदिया

प्रजातंत्र ही
लूटतंत्र बना है
बोले कौन है ।

सत्य-असत्य
झंझावात मन के
परेशान क्यों ?

कौन मानता
कुरान का आयतें
इस्लाम में ।

उलझन में
बेचैन रहती है
मानस बुद्धि ।

11. पूनम भारद्वाज

शीतन छाँव
है क्षणिक सुखों सी
मिलती कहाँ ।

नभ के तारे
असंख्य होकर भी
तम से हारे ।

ओढ़ निलका
सतरंगी दुशाला
इन्द्रधनुष ।

ग़ज़ल बन
सजते होंठों पर
कितने गम ।

12. वाई. वेदप्रकाश

चलते हुए
मैं भी नहीं था यहाँ
कोई है कहाँ ?

आर या पार
लड़ाई का मैदान
जीत या हार ।

मिलेगा तुझे
सपनों में आता जो
मन का मीत ।

हँसते हुए
गाता रहा हूँ मैं
जीवन गीत ।

13. भूपेन्द्र कुमार सिंह

तन पतंगा
मिटने को तत्पर
देख दीपक ।

मन दर्पण
टूटा फिर कैसे हो
कुछ अर्पण ।

होते बिछोह
रुलाता है बहुत
किसी का मोह ।

कारण हठ
हुआ न फिर मन
कभी निकट ।

14. रामनरेश वर्मा

सत्य की बात
अटपटी हो तो भी
लाए मिठास ।

कहे विद्वान
हिन्दुस्तान की जान
हिन्दी महान ।

दुष्ट गुर्राया
कुछ बड़बड़या
शान्ति भगाया ।

निर्भय बनो
अन्याय के विरुद्ध
संघर्ष करो ।

15. बद्रीप्रसाद पुरोहित

नेता समझें
देश को चारागाह
चरें जी भर ।

आधि व्याधि से
घिरी दुनिया सारी
बचा ही कौन ?

नाम सेवा का
काम है कसाई सा
खाली कमाई ।

आनंद पाना
हर कोई चाहता
पाता विरला ।

16. कु. नीलम शर्मा

शब्द श्रृंगार
कविता है दुल्हन
कागज शेज ।

जीवन डोर
बहुत कमजोर
हम पतंग ।

आँसू कहते
आँखों से बहकर
मन की व्यथा ।

माँ का आँचल
स्नेह से सराबोर
देता है छाँव ।

17. डॉ. राजकुमारी शर्मा

देवी-गरीबी
सदियों से जवान
होगी न बूढ़ी ।

क्षुब्ध हो बढ़ा
पूर्णिमा का रीत को
सागर-जल ।

ईश्वर सच
बाईबिल, कुरान
गीता भी सच ।

सर्वनाम ही
साजिशें रचते हैं
संज्ञा के लिए ।

18. डॉ. शरद जैन

लोग दोगले
आदर्श खोखले हैं
स्वर तोतले ।

बरसे मेघ
कूक उठी कोयल
मन घायल ।

ये प्रजातंत्र
बंदर की लंगोटी
एक कसौटी ।

शस्त्रों की होड़
बमों में है शायद
शांति की खोज ।

19. नलिनीकान्त

बुझेगा दीप
अंचरा न उघारो
पूरबा मीत ।

धूप का कोट
पहनकर खड़ा
होरी का बेटा ।

सिन्धु से सीखा
गरजना मेघों ने
यही संस्कार ।

सराय नहीं
आसमान में कहीं
बादल लौटो ।

20. अशेष बाजपेयी

गम इसका
नश्वर संसार में
कौन किसका ?

सूर्य ढला है
अंधेरे ने छला है
दुखा पला है ।

फूल जो खिला
घर के आंगन में
भाग्य से मिला ।

यह जीवन
है कठिन प्रमेय
रेखा अज्ञेय ।

21. सूर्यदेव पाठक पराग

यश की ज्योति
अनन्त काल तक
चमक देती ।

ओ प्यारे बीज !
अगर जमना है
मिट्टी से जुड़ो ।

गीता की वाणी
कर्म की संजीवनी
जग-कल्याणी ।

उषा सहेली
हौले से गुदगुदाती
कली मुस्काती ।

22. ओ.पी. गुप्ता

जुड़ना अच्छा
रिश्ते देते सहारा
समीप – आओ ।

दाग लगता
हर बदन पर
पग धरते ।

नून तेल का
भाव बता नहीं है
मौज करेंगे ।

चढ़ोगे यदि
उतरना भी होगा
जीना-मरना ।

23. सदाशिव कौशिक

भोले सूर्य को
निकलते ही फांसे
बबूल झाड़ी ।

पानी बरसें
टपरे वाले लोग
भूखे कड़के ।

उड़ने लगे
पहाड़ हवा संग
राई बन के ।

फूल महके
पौधे बेखबर थे
हवा ले गई ।

24. डॉ. सुधा गुप्ता

दाना चुग के
उड़ते गए पाखी
आँगन सूना ।

कौन पानी पी
बोलती री चिड़िया
इतना मीठा ।

हँसा तमाल
श्याम का स्पर्श हुआ
बजी बाँसुरी ।

पहाड़ी मैना
टेरती रुक-रुक
जगाती हूक ।

25. मनोहर शर्मा

साँप दूध पी
उगले न जहर
संभव नहीं ।

जिंदगी जीना
आसान काम नहीं
वेदना पीना ।

संवेदनायें
हो रहीं अवधूत
हुए हैं भूत ।

आधी गागर
छलकत जाये रे
गधा गाये रे ।

26. शैल रस्तोगी

सोई है धूप
तलहटी जागती
थकी लड़की ।

फूले कनेर
महकी यादें, मन
टीसती पीर ।

लिखती धूप
फूल फूल आखर
भागती नदी ।

आँखें पनीली
धुँधलाया आकाश
दिखे ना चांद ।

27. रमेश कुमार सोनी

मौत तो आयी
जिंदा कोई न मिला
वापस लौटी ।

याद रखना
भीड़ पैमाना नहीं
कद माप का ।

अकेला चाँद
साथ मेरे चलता
रात में डरे ।

पत्थर पूजा
ईश्वर मानकर
कुछ न मिला ।

28. कमलेश भट्ट

गर्मी बढ़ी तो
बढ़ा ली पीपल ने
हरियाली भी ।

आग के सिवा
और क्या दे पाएगा
दानी सूरज ।

खुद भी जले
धरा को जलाने में
ईर्ष्यालु सूर्य ।

टंगे रहेंगे
आसमान में मेघ
कितनी देर ?

29. डॉ. सुनील कुमार अग्रवाल

पत्थर भी क्या
सज सकते कभी
डालियों पर ।

हाथ से गिरे
मोती कूदते हुए
दूर हो गये ।

रेत समेटे
गिलहरियाँ घूमे
राम न चूमे ।

नदी थी नीली
अब नाला हो गई
पाप धो गई ।

30. रमेशचन्द्र शर्मा

धँसा सो फँसा
दलों का दलदल
मुक्ति कठिन ।

लीला वैचित्र्य
पल-पल प्रसन्न
प्रभु के भक्त ।

वर्जित शब्द
गूढ़ रहस्य मृत्यु
अस्तित्वहीन ।

आतंकवाद
बेटा ही बाप बना
गले की फाँस ।

31. डॉ. मिथिलेश दीक्षित

चाँद शिशु है
चाँदनी में है खिली
उसकी हँसी ।

बुझ न जाएँ
टिमटिमाते दीप
जागो जिन्दगी ।

पानी की कमी
आँसू टपका रही
पानी की टंकी ।

मानव तन
क्षित, जल, पावक
वायु, गगन ।

32. उर्मिला कौल

शीशा वो शीशा
टूटता आदमी भी
कण चुगूँ मैं ।

बीज अंकुरा
पात-पात पुलका
आया पावस ।

यादों के मोती
चली पिरोती सुई
हार किसे दूँ ?

कुहासा भरा
मन, कहाँ झुकूँ मैं
मंदिर गुम ।

33. कमलाशंकर त्रिपाठी

माँ की छवि मैं
क्या कुछ अन्तर है
कोई कवि में ।

पावस घन
उतरे नीलाम्बर
हरषे मन ।

आ गये कंत
पावस के संग ज्यों
आया बसंत ।

कामना वट
आश्रय पाते आये
तृष्णा के खग ।

34. डॉ. इन्दिरा अग्रवाल

भारत ! राम
विजय सुनिश्चित
पाक ! रावण ।

गीता का स्वर
तरंग जल स्वर
स्निग्ध मधुर ।

मेरा जीवन
ज्वालामुखी का फूल
आग ही आग ।

मन भटके
यत्र-तत्र-सर्वत्र
तृषा न बुझे ।

35. जवाहर इन्दु

महुआ बाग
रस पीती कोयल
पंचम राग ।

तृषा अधूरी
कब होती है पूरी
हमेशा दूरी ।

मौसम गाये
गली-गली महकी
पाहुन आये ।

नदी बहेगी
आँसू नहीं अमृत
दर्द सहेगी ।

इन हाइकुओं का संकलन सृजन-सम्मान के सरिया विकासखंड (रायगढ़ जिला) के अध्यक्ष श्री प्रदीप कुमार दाश “दीपक” ने अपनी पत्रिका ‘हाइकु मंजूषा’ में किया है । वे छत्तीसगढ़ के युवा हाइकुकार हैं ।

– जयप्रकाश मानस
रायपुर ( छत्तीसगढ़ )
30/03/2006 आलेख

434 Views
You may also like:
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
बुध्द गीत
Buddha Prakash
अनामिका के विचार
Anamika Singh
संघर्ष
Sushil chauhan
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
माँ
आकाश महेशपुरी
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पिता की याद
Meenakshi Nagar
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कर्म का मर्म
Pooja Singh
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पापा
Anamika Singh
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...