Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2022 · 1 min read

हाँ प्राण तुझे चलना होगा

हाँ प्राण तुझे चलना होगा

जबतक घट में तार साँस का
जबतक जगमग दीप आस का
जीवन के बीहड़ जंगल में
हाँ प्राण ! तुझे चलना होगा ।

माना पग-पग लाखों काँटे
जहर बुझी शमशीरों जैसे
खड़े मार्ग में विषधर बनकर
पार्थ धनुष के तीरों जैसे

नहीं डगर पर प्यार फूल का
है केवल नफरत शोलों की
कहीं नजर आँधी की तुम पर
औ कहीं दाढ़ है ओलों की

फिर भी डर का शीश कुचलकर
झरनों ज्यों पर्वत से चलकर
हर बाधा को कफ़न उढ़ाकर
हाँ बीज ! तुझे फलना होगा ।

काम शूल का राह रोकना
राह न रोके तो क्या रोके ?
क्या पथ पर कालीन बिछाये
या सिरजे अवसर पग धोके ?

तूफानों से हँसी चाहना
पागलपन है कुछ और नहीं
पागलपन भी ऐसा शापित
किस्मत में जिसके भोर नहीं

थूक चाटती झुकी रीढ़ से
भीख चाहती तुच्छ भीड़ से
पहचान अलग रखने खातिर
हाँ मीत ! तुझे टलना होगा ।

मत रख आशा किसी श्वास से
मखमल जैसी हमदर्दी की
यह दुनिया है एक छलावा
जैसे धूप किरण सर्दी की

खेल यहाँ पर सिर्फ स्वार्थ का
और नहीं है कुछ खेल यहाँ
हर मानव मुज़रिम रिश्तों का
हर आँगन है इक जेल यहाँ

परवाह किये बिन कारा की
फिक्र किये बिन अँधियारा की
स्याह तमस के वक्षस्थल पर
हाँ दीप ! तुझे जलना होगा ।

अशोक दीप
जयपुर

Language: Hindi
1 Like · 56 Views
You may also like:
दुख से बचने का एक ही उपाय है
दुख से बचने का एक ही उपाय है
ruby kumari
गंगा का फ़ोन
गंगा का फ़ोन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समझा होता अगर हमको
समझा होता अगर हमको
gurudeenverma198
साक्षात्कार:- कृषि क्षेत्र के हित के लिए
साक्षात्कार:- कृषि क्षेत्र के हित के लिए "आईएएस" के तर्ज...
Deepak Kumar Tyagi
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कभी गरीबी की गलियों से गुजरो
कवि दीपक बवेजा
भारत के 'लाल'
भारत के 'लाल'
पंकज कुमार कर्ण
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
धन की देवी
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
हौलनाक चीखें
हौलनाक चीखें
Shekhar Chandra Mitra
"दिल में कांटा सा इक गढ़ा होता।
*Author प्रणय प्रभात*
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*यह अराजकता हमें( गीत )*
*यह अराजकता हमें( गीत )*
Ravi Prakash
दीदार ए वक्त।
दीदार ए वक्त।
Taj Mohammad
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
बहकी बहकी बातें करना
बहकी बहकी बातें करना
Surinder blackpen
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
"त्रिशूल"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार:एक ख्वाब
प्यार:एक ख्वाब
Nishant prakhar
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
J_Kay Chhonkar
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
आदित्य हृदय स्त्रोत
आदित्य हृदय स्त्रोत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निकलते हो अगर चुपचाप भी तो जान लेता हूं..
निकलते हो अगर चुपचाप भी तो जान लेता हूं..
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
✍️ हर बदलते साल की तरह...!
'अशांत' शेखर
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
Loading...