Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-226💐

हाँ,कब किस से मुलाक़ात हो?कुछ नहीं पता,
यहाँ किसका क्या पता था, वह भी नहीं पता?

©®अभिषेक:पाराशरः”आनन्द”

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
विरहन
विरहन
umesh mehra
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहे
दोहे
सत्य कुमार प्रेमी
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
Pain changes people
Pain changes people
Vandana maurya
"इससे पहले कि बाय हो जाए।
*Author प्रणय प्रभात*
" यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
कवि दीपक बवेजा
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम की पुकार
प्रेम की पुकार
Shekhar Chandra Mitra
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Manisha Manjari
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
*तन तो बूढ़ा हो गया, जिह्वा अभी जवान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
// होली में ......
// होली में ......
Chinta netam " मन "
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
छोड़ कर मुझे कहा जाओगे
Anil chobisa
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
Loading...