May 13, 2022 · 1 min read

हसद

हसद दिलों से हटाओ बहुत अँधेरा है ,
गिले शिकवे सब भुलाओ बहुत अँधेरा है ,
दर्द पाओगे अगर ज़ख्म कोई छेड़ोगे
शमा मोहब्बत की जलाओ बहुत अँधेरा है ,

1 Like · 22 Views
You may also like:
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
आपातकाल
Shriyansh Gupta
Born again with love...
Abhineet Mittal
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
मां
Anjana Jain
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H.
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
Loading...