Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#22 Trending Author
Jun 24, 2022 · 1 min read

हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं

हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
लाख करते हैं जतन ये बिखर जाती हैं
हवा के झोंको में…………….
देखने वाले समझते हैं कोई अदा है मेरी
कोई नहीं देखता ये खुद बिखर जाती हैं
हवा के झोंको में…………….
सिर उठाके चलूँ तो कहते हैं गुरूर मेरा
सिर झुका के चलूँ तो ये बिखर जाती हैं
हवा के झोंको में……………
लोग लिखते हैं गजल इन जुल्फों पे मेरी
कभी इधर कभी उधर ये बिखर जाती हैं
हवा के झोंको में…………….
नहीं सम्भलती हैं बस यही है कुसूर मेरा
‘विनोद’देख तूँ भी ये कैसे बिखर जाती हैं
हवा के झोंको में…………….

2 Likes · 65 Views
You may also like:
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
मुखौटा
Anamika Singh
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
मत कहो भगवान से
Meenakshi Nagar
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मौत
Alok Saxena
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
'अशांत' शेखर
बहुमत
मनोज कर्ण
कैसा इम्तिहान है।
Taj Mohammad
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
Time never returns
Buddha Prakash
✍️✍️गुमराह✍️✍️
'अशांत' शेखर
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
मित्र
लक्ष्मी सिंह
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
तरबूज का हाल
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
मिसाल
Kanchan Khanna
Loading...