Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हवस

मजा जीने का आता है चला जाता है।
हवस मिटती नही मजा आने के भी बाद।।

हर शख्स में वही दिखती है,
ये हवस है या आरजू मिलने की।

पेट भर दिया ज़िस्म ने मेरा,
हवस मिटती नही मरने के भी बाद।

मैं जिंदा हूँ हर कल के लिए,
हवस ने संभाला है जीने के लिए।।

मैं उससे नफरत करूँ या नापसंद करूँ,
मेरी हवस मुझे खींच लाती है द्वार तक तेरे।।

मेरी हवस की इंतहा हो गयी इतनी,
उसकी फोटो से नजरें हटती नही।।

मोहब्बत तो बहाना बन गया था,
हवस का संभलना मुश्किल जो हो रहा था।।

तुझे छूना, तुझे देखना, तेरा एहसास अकेले में करना, प्यार तो नही लगता।
दूसरे से मिलता हूँ तो तुझे क्यों भूल जाता हूँ ??

2 Likes · 108 Views
You may also like:
प्रेम
Dr.sima
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
मां
Dr. Rajeev Jain
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
बुआ आई
राजेश 'ललित'
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...