Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2022 · 1 min read

हर रोज में पढ़ता हूं

हर दिन मैं पढ़ता हूं
हर दिन मैं लिखता हूं
कब मिलेगी नौकरी
यही मैं सोचता हूं
रोज की परेशानियों से
हर दिन की थकानी से
यही तो मैं लिखता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं

आंखों में आशा लिए
दिल में भरोसा लिए
घर की उम्मीदों पर
खड़ा होने की कोशिश में करता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हू

देखता हूं उम्मीद से
सोचता हूं उम्मीद से
अबकी बार मैं हो जाऊंगा सफल
यही मैं सोचता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं

हर बार मैं सोचता हूं
अगली पर्व घर में होगी
घर में खुशहाली होगी
नौकरी की उम्मीद लिए
खूब मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं

पढ़ने में उम्र बीत गई
मालूम नहीं चला
कब मै शादी के योग्य हो गया
मालूम नहीं चला
अब की साल मिलेगी नौकरी
यही मैं सोचता हूं
खूब मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढ़ता हूं
हर रोज मैं पढता हूं

सुशील चौहान
फारबिसगंज अररिया बिहार

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 1 Comment · 60 Views
You may also like:
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
कसम खुदा की
gurudeenverma198
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
🙏मॉं कात्यायनी🙏
पंकज कुमार कर्ण
बाल कहानी- टीना और तोता
SHAMA PARVEEN
प्यार झूठा
Alok Vaid Azad
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
भोरे
spshukla09179
शहद वाला
शिवांश सिंघानिया
हमनें ख़ामोश खुद को देखा है
Dr fauzia Naseem shad
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बाबूजी
Kavita Chouhan
बेरोजगार मजनूं
Shekhar Chandra Mitra
एक हकीक़त
Ray's Gupta
लोकदेवता :दिहबार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
मानव इतिहास के महानतम् मार्शल आर्टिस्टों में से एक "Bruce...
Pravesh Shinde
अल्फाजों में लिख दिया है।
Taj Mohammad
नया साल सबको मुबारक
Akib Javed
लाचार बचपन
Shyam kumar kolare
Sunny Yadav
Sunny Yadav
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
*रस्ता जाम नहीं करिए( मुक्तक )*
Ravi Prakash
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
धन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...