Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-432💐

हर इक राह दिखाई गई फिर मोड़ दे दी गई मुझे,
एतिबार कह बे-एतिबार की शक़्ल दे दी गई मुझे,
हमारा सारा जहाँ हो उनका इश्क़ नहीं हो तो क्या है,
ज़िगर में उतारना,ख़ामोशी से तलवार दे दी गई मुझे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नववर्ष
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
तो क्या तुम्हारे बिना
तो क्या तुम्हारे बिना
gurudeenverma198
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
अपनी घड़ी उतार कर मत देना
अपनी घड़ी उतार कर मत देना
shabina. Naaz
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
*बहुत अच्छाइ‌याँ हैं, मन्दिरों में-तीर्थ जाने में (हिंदी गजल
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-372💐
💐प्रेम कौतुक-372💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
रक्षाबंधन भाई बहन का त्योहार
Ram Krishan Rastogi
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।
सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
पापा
पापा
Nitu Sah
*आशिक़*
*आशिक़*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
औरत और मां
औरत और मां
Surinder blackpen
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज की नारी हूँ
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
मंदिर
मंदिर
जगदीश लववंशी
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
दिल तेरी जुस्तजू
दिल तेरी जुस्तजू
Dr fauzia Naseem shad
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अब हम बहुत दूर …
अब हम बहुत दूर …
DrLakshman Jha Parimal
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...