Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-61💐

हर इक दूरी तय कर ली है,
जब से उनसे मुलाकात कर ली है।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
46 Views
You may also like:
नेता या अभिनेता
नेता या अभिनेता
Shekhar Chandra Mitra
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
■ कभी मत भूलना...
■ कभी मत भूलना...
*Author प्रणय प्रभात*
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
एक सूखा सा वृक्ष...
एक सूखा सा वृक्ष...
Awadhesh Kumar Singh
अधीर मन
अधीर मन
manisha
बहुत मुश्किलों से
बहुत मुश्किलों से
Dr fauzia Naseem shad
धरा कठोर भले हो कितनी,
धरा कठोर भले हो कितनी,
Satish Srijan
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का पल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का पल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कुछ भी असम्भव नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
सूर्यकांत द्विवेदी
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
" यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
कवि दीपक बवेजा
आज की प्रस्तुति: भाग 3
आज की प्रस्तुति: भाग 3
Rajeev Dutta
*चूहे जी पहाड़ पर आए (बाल कविता)*
*चूहे जी पहाड़ पर आए (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
विचारमंच भाग -3
विचारमंच भाग -3
Rohit Kaushik
"प्रेम की अनुभूति"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिमला
शिमला
डॉ प्रवीण ठाकुर
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
लौटना मुश्किल होता है
लौटना मुश्किल होता है
Saraswati Bajpai
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
ग़रीबों को फ़क़त उपदेश की घुट्टी पिलाते हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नैन
नैन
Taran Verma
Loading...