Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

हरियाला सावन

हरा भरा हरियाला सावन
मन भाये मतवारा साजन
प्यासी प्रीत धरा की जागी
उर को वुझावे आ नीलगगन

महक उठी अब डाली डाली
गाए मल्हार कोयलिया कारी
पड़ गए झूले अमुवा की डाली
संग झुलावे आके प्रिय साजन

वहे पुरवैया अगन लगावे
विरह जिया में हूंक उठावे
बुँदे भीग आँचल सुलगावे
अंग लगा अब आके साजन

सखी सहेली पिय संग डोले
गीत मिलन के गुन गुन बोलें
झुलस रही मेरी तन मन ज्वाला
शांत करो पिय ले आलिंगन
हरा भरा………..
मन भाये मतवारा साजन

Language: Hindi
Tag: गीत
11 Likes · 3 Comments · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-468💐
💐प्रेम कौतुक-468💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूमि दिवस
भूमि दिवस
SATPAL CHAUHAN
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सखी री आया फागुन मास
सखी री आया फागुन मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
अमीरों की गलियों में
अमीरों की गलियों में
gurudeenverma198
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...