Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हरिगीतिका

पुलक परिन्दे नभ जाय
================
मीठी तान सुना दे मितवा , जे मन मगन हो जाय ,
मन के मैल मिटाए मानवां, मन उजयार हो जाय,
मन भेद से महल है उजड़ा, मन कभी आपा खोय,
बिखरे मोती मोल न कूता, माल गुथी नाहि जाय ।

ईद-दीवाली सदा मनाए , प्रीत की रीत निभाय ,
गृह आंगना बिखरे खुशियाँ , पुलक परिन्दे नभ जाय ,
सृजन नवयुग का कर बन्दे , नव चेतन चित्र बनाय ,
टूटे दंभ दानव मानव का , कटुता घानी पिसाय ।

प्रीतम सम प्रेम पनपे अंतर , शीतल समीर बौराय,
पत्ते हिल-मिले झूला झूले , डारिया झुक-झुक जाय ,
निर्मल नीर बहे सब नदिया, पनघट नेह भर जाय,
दो पल जीना काम है अनंत, सोचत जीवन पल जाय ।

हर पल हो श्रम की पूजा , पाखंड धरा रह जाय ,
उद्यम फूले गाँव-गली में , देश तजे सुत न जाय ,
कलियाँ कलप किलके प्रतिपल, मधुरस कंठ भर जाय ,
खेत भरें हो हरियाली में , वसुधा देख हरषाय ।

===========================
शेख जाफर खान

5 Likes · 2 Comments · 233 Views
You may also like:
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
शांति....
Dr.Alpa Amin
गीता की महत्ता
Pooja Singh
प्रकृति का अंदाज.....
Dr.Alpa Amin
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तकदीर की लकीरें।
Taj Mohammad
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
घड़ी और समय
Buddha Prakash
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
डूबती कश्ती को साहिल दे।
Taj Mohammad
रेत   का   घर 
Alok Saxena
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आमाल।
Taj Mohammad
✍️दिशाभूल✍️
"अशांत" शेखर
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सूरज काका
Dr Archana Gupta
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
✍️शराब का पागलपन✍️
"अशांत" शेखर
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
Loading...