Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2022 · 1 min read

हम सब एक है।

हम सब है भारतवासी
देश हमारा एक ।
रंग -रूप है अलग – अलग
पर दिल हमारा एक।

एक हमारी धरती सबकी
गगन हमारा एक।
अलग – अलग है बोली सबकी
पर दिल हमारा एक।

एक ही जल सब मिलकर पीते है।
लेते है साँस वह हवा है एक ।
वेश- भुषा अलग-अगल है
पर पहचान हमारा एक।

महजब- धर्म भले ही अलग है।
पर राष्ट्र हमारा एक।
हम सब है भारतवासी
दिल हमारा एक।

~ अनामिका

6 Likes · 4 Comments · 178 Views
You may also like:
#15_जून
Ravi Prakash
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
✍️इंतजार में सावन की घड़ियां✍️
"अशांत" शेखर
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
मौसम की पहली बारिश....
Dr.Alpa Amin
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
✍️मुझे कातिब बनाया✍️
"अशांत" शेखर
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...