Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 3, 2016 · 1 min read

हम-सफर नहीं जिनके रास्तों से जलते है

हम-सफर नहीं जिनके रास्तों से जलते हैं
इनकी अपनी राय है मशवरों से जलते हैं

जब ज़बान खोलेंगे आग ही निकालेंगे
इनको जानता हूँ मे ये गुलों से जलते है

हम मज़ाज दिवाने मसलेहत से बेगाने
क्यों तेरे शहर वाले आदतों से जलते हैं

जिनके हाथ खाली है वह तो बस सवाली हैं
जिनके पास सबकुछ है दूसरों से जलते हैं

– नासिर राव

144 Views
You may also like:
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
मानवता
Dr.sima
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
किताब।
Amber Srivastava
जीवन मेला
DESH RAJ
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण
Love Heart
Buddha Prakash
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H. Amin
बरसात
मनोज कर्ण
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
जग के पिता
DESH RAJ
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
Loading...