Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#19 Trending Author
May 26, 2022 · 1 min read

हम भी नज़ीर बन जाते।

काश हमारे पास भी होती ये दौलत,
तो हम भी अमीर कहलाते।

लेते सब हमको अदब ओ लिहाज़ में,
यूं हम भी नज़ीर बन जाते।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

2 Likes · 81 Views
You may also like:
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
परिणय
मनोज कर्ण
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
बेटी को लेकर सोच बदल रहा है
Anamika Singh
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
Yavi, the endless
रवि कुमार सैनी 'यावि'
कोशिश
Anamika Singh
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
ज़िंदगी देती।है
Dr fauzia Naseem shad
दर्द आवाज़ ही नहीं देता
Dr fauzia Naseem shad
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
अपना कंधा अपना सर
विजय कुमार अग्रवाल
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
पिता का दर्द
Anamika Singh
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गंगा माँ
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
रामपुर में दंत चिकित्सा की आधी सदी के पर्याय डॉ....
Ravi Prakash
लौट आते तो
Dr fauzia Naseem shad
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*डॉक्टर भूपति शर्मा जोशी की कुंडलियाँ : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
वक्त बदलता रहता है
Anamika Singh
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...