Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 21, 2022 · 1 min read

हम बस देखते रहे।

वो जाते रहे हम बस देखते रहे।।
ना उन्होनें कुछ कहा,,
ना हमने ही कुछ कहा,,
नज़रों से बस अश्क गिरते रहे।।

जानें कब इतने फासले दरम्यां हो गए।।
खामोश वह रहे,,
खामोश हम रहे,,
यूं बिना जमीं के हम आसमां हो गए।।

हमारी इश्के कश्ती को साहिल ना मिले।।
जिनको समझते थे,,
हम अपना रहनुमां,,
आज दुश्मनों में वह भी शामिल हो गए।।

हरे भरे सब्जबाग सारे ही बयाबां हो गए।।
जिंदगी तरसी बूंद बूंद आब की,,
धूल ही धूल उड़े बस खाक की,,
बस्तियां उजड़ी बाकी बस निशां रह गए।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 6 Comments · 52 Views
You may also like:
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
अपना होता है तो
Dr fauzia Naseem shad
दरख्तों से पूँछों।
Taj Mohammad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️हमसे लिपट गये✍️
'अशांत' शेखर
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
गम देके।
Taj Mohammad
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
तेरी खैर मांगता हूं।
Taj Mohammad
#अपने तो अपने होते हैं
Seema Tuhaina
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️तू डरा मत ऐ जिंदगी...✍️
'अशांत' शेखर
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रूला दे ये ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
"महेनत की रोटी"
Dr.Alpa Amin
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
आग
Anamika Singh
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
Loading...