Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 25, 2016 · 1 min read

हम दर्शन करें

हम दर्शन करें

शुद्ध मन से माँ के हम दर्शन करें,
भावनाओं में बहें चिंतन करें।

शक्तिशाली माँ सभी यह जानते,
सत्य यह स्वीकार कर वंदन करें।

भक्ति को आधार जीवन का समझ,
हम स्वयं में आज परिवर्तन करें।

विश्व के कल्याण की सद्भावना,
हर हृदय में स्नेह का गुंजन करें।

शुभ चरण पर शीश सब अपने नवा,
भक्त अपने धन्य अब जीवन करें।

*************************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

152 Views
You may also like:
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
बुआ आई
राजेश 'ललित'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संत की महिमा
Buddha Prakash
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
झूला सजा दो
Buddha Prakash
Green Trees
Buddha Prakash
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
Loading...