Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 4, 2022 · 1 min read

हम और तुम जैसे…..

हम और तुम जैसे…..

हम और तुम
जैसे रेल की पटरी
साथ तो हैं मगर जुदा जुदा
मानो तुम मुझसे मैं तुझसे
कुछ ख़फ़ा ख़फ़ा

या सड़क के दो किनारे
दो समानांतर रेखाएँ
साथ साथ तो चलतीं
पर कभी नही मिलतीं
बीच में पसरा अहम
समेट न पाए हम

ज्यूँ नदी के दो पाट
मध्य जिसके डूब रही
भरोसे की कश्ती
अपेक्षा उपेक्षा के भँवर में
इक दूजे को ढूँढते
न जाने कहाँ खो गए हम
मैं,मैं रह गयी
तुम रह गये तुम

शायद इतने क़रीब थे
कि दूरी फलांग न सके
ग़र दूर से देखा होता
तो सम्भावनाएँ होती
जुड़ जाने की
एक हो जाने की
जैसे दूर क्षितिज पर
मिल जाती हैं पटरियाँ
सड़क के दो किनारे
नदिया के पाट

चलो भ्रम ही सही
मगर जगा जाता है
एक आस एक उम्मीद
दूर क्षितिज पर मिलने की
एक सपन ही सही
पर मिल तो जाते
काश हम थोड़ी दूर और
साथ साथ चल पाते

रेखांकन।रेखा ड्रोलिया
कोलकाता
स्वरचित

5 Likes · 9 Comments · 102 Views
You may also like:
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
भावों उर्मियाँ ( कुंडलिया संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
मां बाप की दुआओं का असर
Ram Krishan Rastogi
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरी सूरत
DESH RAJ
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...