Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हम एक है

ना पहचान दे मुझे
मेरे नाम से,
पहचान दे मुझे
मेरे ईमान से,
राम-रहीम तो बस चिन्ह है समाज के,
हम एक है,
बरसात की बूंद से…

निकले हैं हम बादलों से
आसमान को चीर कर
हरा-भरा करना है जमीन को
अपनी रूह से सींचकर

भूखों का पेट भरना है
छाया देनी है सभी को
भाप बनकर उड़ना है
बादल बनना है सभी को

जीवन के इसी चक्र का
हिस्सा हैं हम सभी,
कभी भाप से बादल तो
कभी बादल से बूँद बनते है सभी।

ना राम हमको तारेगा
ना कष्ट सहेगा खुदा कभी
कर्म ही हमारी जन्नत बनेगा
कर्म ही बनाएगा नर्क यहीं।

है आस्था
तो उसे आस्था ही रहने दो
विस्वास है विस्वास तक
अंधविस्वास ना बनने दो,
हम क्यों लड़े उसके लिए,
जो दिखता नही कभी,
लड़खड़ा कर गिरे जब राहों पर,
इंसान ही काम आया हर कहीं।

ना खून का रंग अलग है
ना अलग है बनाबट शरीर की,
चुभती है सुई शरीर में,
तो आँखें निचुड़ती है सभी की,
किस बजह से कहूँ,
तुम अलग हो मेरी रूह से,
जिंदा हो जैसे,
मरते हो वैसे ही….

1 Like · 76 Views
You may also like:
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Little sister
Buddha Prakash
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
बुलबुला
मनोज शर्मा
राफेल विमान
jaswant Lakhara
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
"अशांत" शेखर
बदलती दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
इंतजार
Anamika Singh
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
✍️शराब का पागलपन✍️
"अशांत" शेखर
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
मौसम की पहली बारिश....
Dr. Alpa H. Amin
Born again with love...
Abhineet Mittal
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...