Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 4, 2017 · 1 min read

हम एक देश के वासी है ये हिन्दुस्ता हमारा है

हम एक देश के वासी है
ये हिन्दुस्ता हमारा है
नाजाने कितने वीरों ने
फंदे को गले में उतारा है
सबने ही कुर्बानी दी
धर्म का ना कोई खेल किया
हिन्दुस्ता के वीरों ने खुद को
देश के लिए भेट किया
राजनीति के लोगों ने
देश को धर्मो में बाँट दिया,
जात-पात का खेल खिला कर
कितनो को शूली में टांग दिया |
सब धर्मों ने मिलकर ही हिन्दुस्ता को
आज़ाद करवाया था |
नही किया था भेद-भाव
एक थाली में मिलकर खाया था |
देश के वासीयों ने एकता दिखाई थी
फिरंगी को मार भगाया सबको आज़ादी दिलाई थी |
चंद स्वार्थी लोगों ने देश अपना बना डाला
हिन्दुस्ता को बाँट कर हिन्दू मुस्लिम बना डाला
देश के वीर जवानो की कुर्बानी वो भूल गए
हो गए वो सत्ता लोभी देश को वो लूट गए |
आँखे बंद कर ली है सबने मूक-बधिर वो गए
देश की जनता को मूर्ख बनाकर जीत कर वो सो गए |
पांच साल के शासन में कितना ही कमा डाला
बेशर्मो ने तो देश का व्यपार भी कर डाला
जिस थाली में खाया है उसमे ही छेद किया
चंद पैसों के खातिर देश को बेच दिया
मर रही भूखी जनता उनका भी हक छीन लिया
भूपेंद्र रावत
4/09/2017

1 Like · 167 Views
You may also like:
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Manisha Manjari
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ
आकाश महेशपुरी
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*"पिता"*
Shashi kala vyas
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आस
लक्ष्मी सिंह
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...