Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

हम इतने दीवाने निकले

लोग हमें समझाने निकले
हम इतने दीवाने निकले

नज़रें मिली,बात इतनी थी
किस्से कई अफ़साने निकले

जब भी मिले यारों से अपने
दिल का हाल बताने निकले

देखके उनको लट्टू हो गए
शम्मा वो हम परवाने निकले

“आनंद”अंगुली दिखाने वाले
सब जाने-पहचाने निकले

@आनंद बिहारी
Email:akt1.live@gmail.com

1 Comment · 411 Views
You may also like:
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
इंतजार
Anamika Singh
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
आस
लक्ष्मी सिंह
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
Loading...