Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2022 · 2 min read

हम अपने मन की किस अवस्था में हैं

हमारा स्थूल शरीर जन्म से मृत्यु तक 5 अवस्थाओं से गुजरता है – (1) बाल्यावस्था (2) किशोरावस्था (3) युवावस्था (4) प्रौढ़ावस्था और (5)वृद्धावस्था । ये पांचो अवस्थाएं शरीर के क्रमिक विकास की अवस्थाएं हैं । लेकिन मनुष्य शरीर , स्थूल शरीर तक ही सीमित नहीं है । इसमें सूक्ष्म शरीर (मन) भी शामिल होता है । सूक्ष्म शरीर मृत्यु को प्राप्त नहीं होता । सूक्ष्म शरीर के विकास का भी एक निर्धारित क्रम है । सूक्ष्म शरीर अर्थात मन की पांच अवस्थाएं हैं – 1 मूढ़ 2 क्षिप्त 3 विक्षिप्त 4 एकाग्र और (5) निरुद्ध । मन की मूढ़ अवस्था वाला व्यक्ति सदैव दूसरों में दोष देखता है और उसे हानि पहुंचाने की कोशिश करता है , भले ही वह उसका कितना ही बड़ा हितैषी क्यों न हो । क्षिप्त अवस्था वाला व्यक्ति चंचल स्वभाव का होता है । उसका मन एक समय में कई विषयों पर सोचता है लेकिन कभी किसी निर्णय पर नहीं पहुंचता । मन की विक्षिप्त अवस्था वाला व्यक्ति बहुत कम समय के लिए किसी एक विषय पर टिकता है । वह हाथ में लिए गये कार्य को बीच में छोड़कर कोई दूसरा कार्य करने लग जाता है । एकाग्र अवस्था , मन की एक श्रेष्ठ अवस्था है । इस अवस्था में मन एक बिंदु या विषय पर केंद्रित होने लगता है । मन की एकाग्र अवस्था साधारण मनुष्य को असाधारण बनाने में उत्प्रेरक का कार्य करती है । मन की निरुद्ध अवस्था मन की सर्वाधिक उन्नत अवस्था है । यही अवस्था मनुष्य को असाधारण बनाती है । निरुद्ध अवस्था को प्राप्त व्यक्ति दूसरे जीव जंतु के मन की बात जानने में समर्थ होता है । मन की निरुद्ध अवस्था को प्राप्त अधिकतर व्यक्ति आत्मलीन रहते हैं । वह अपने मन को विचार शून्य अवस्था में रखने में समर्थ होते हैं । इसे समाधि भी कहते हैं । यहां एक बार पुनः स्पष्ट कर दें कि हमारा मन शरीर की मृत्यु के साथ नहीं मरता । मन किसी शरीर के मृत होने पर दूसरे नए शरीर में हस्तांतरित हो जाता है । यह ठीक वैसे ही है जैसे किसी कंप्यूटर के बहुत पुराने होने पर उसके हार्डवेयर को फेंक दिया जाता है , लेकिन उसके पहले एक पेन ड्राइव में कम्प्यूटर का सारा डाटा डाउनलोड कर नए कंप्यूटर में अपलोड कर दिया जाता है । इस प्रक्रिया को डाटा ट्रांसफर कहते हैं । एक शरीर से दूसरे शरीर में मन का प्रवेश एक तरह का डाटा ट्रांसफर है । पुराने शरीर में मन जिस अवस्था में होता है नए शरीर में वह उतनी ही बेहतर स्थिति से शुरुआत करता है । अपने मन में प्रवहमान विचारों से हम अपने मन की अवस्था को समझ सकते हैं । यदि हमारे मन में किसी के प्रति अकारण घृणा और तिरस्कार के भाव पैदा हों तो हम अभी तक अपने मन की प्रथम अवस्था में ही हैं।
… शिवकुमार बिलगरामी

3 Likes · 2 Comments · 248 Views
You may also like:
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️दो पंक्तिया✍️
'अशांत' शेखर
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे जज्बात
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
✍️ये अज़ीब इश्क़ है✍️
'अशांत' शेखर
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
तेरा नाम।
Taj Mohammad
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
हर लम्हा।
Taj Mohammad
इश्क
goutam shaw
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
Loading...