Sep 1, 2016 · 1 min read

हमें तो तन्हाई से मुहब्बत ही महफ़िलो भरा जहां देती है!

जिन्हे तन्हाई से डर लगता है उन्हें होगा शौक़ महफ़िलो का,
हमें तो तन्हाई से मुहब्बत ही महफ़िलो भरा जहां देती है!

वो कोई और थे जिन्होंने लिखीं था कहानियां
हमे तो दिल्लगी किस्सो की वजह देती है

खोया सा था वो रेगिस्तान में किसी बूँद सा
बड़ा भारी पड़ा ढूंढना जो हर रात जगा देती है

कितनी कोशिशें की किसी और के हम भी हो जाएं
उसका होने की ज़िन्दगी आज भी सज़ा देती है

116 Views
You may also like:
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H.
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम...
Sapna K S
फिजूल।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
वसंत का संदेश
Anamika Singh
Loading...