Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 27, 2016 · 1 min read

हमें जिद है…

लगी है ज़िद तुझे हर हाल में दिल में बसाने की….
मनाने की तुझे तेरी वफा को आजमाने की …

झुकाने को करे चाहे जमाना हर सितम हम पर
मगर अब ठान ली हमने जमाने को झुकाने की

तुम्हारे नाम पर जीना तुम्हारे नाम पर मरना..
फ़कत इतनी जरूरत है मे’रे इस दिल दिवाने की

ज़फा की आग सहने की हमें आदत बहुत है हाँ…
च़रागो को कहो जाकर न सोचें भी जलाने की

तिरी सोहबत में हम आश़की ही सीख पाये हैं..
सिखा दे यार हमको भी अदा तू दिल जलाने की

तुझे हमसे नहीं है आज माना प्यार थोड़ा भी ….
हमें भी आरजू है यार को अपना बनाने की.

रुकी सी हो गई धङकन बची ना सांस सीने में..
करी कोशिश कभी हमने तुम्हें जब भी भुलाने की

213 Views
You may also like:
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
Loading...