Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#27 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है

हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
विदा कलयुग को करना है पुनः सतयुग को लाना है

वचन मन कर्म से करना हमें अब धर्म का पालन
हमारे आचरण से हो सुवासित सिद्ध ये जीवन
सिखाने गुण यहाँ जन जन को ममता धैर्य सेवा के
वही फिर पाठ मानवता का अब खुद को पढ़ाना है
विदा कलयुग को करना है पुनः सतयुग को लाना है

हमें अब राम के जैसे बनाने पुत्र संस्कारी
हमें अब जानकी जैसी बनानी है सुता प्यारी
भुलाकर कष्ट जो अपने करें कर्तव्य का पालन
हमें परिवार का सबको सही मतलब बताना है
विदा कलयुग को करना है पुनः सतयुग को लाना है

बना आदर्श लेंगे अपना अब श्री राम जी को हम
मिटाकर हर बुराई को जगत से लेंगे तब ही दम
कहा है जो वही करके दिखाना अब हमें होगा
हमें श्रीराम बनना है न केवल गान गाना है
विदा कलयुग को करना है पुनः सतयुग को लाना है

घरों में नित पढ़ी जाएगी गीता और रामायण
मिटेगी आसुरी ताकत कटेगा चैन से जीवन
न होगा बैर बस दिल से बहेगी प्रेम की गंगा
सुखी फिर राम का वो राज्य वापस ले के आना है
विदा कलयुग को करना है पुनः सतयुग को लाना है

10-04-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

10-04-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 3 Comments · 119 Views
You may also like:
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
काँटा और गुलाब
Anamika Singh
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H. Amin
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H. Amin
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Vijaykumar Gundal
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
मन
शेख़ जाफ़र खान
यादें आती हैं
Krishan Singh
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
Loading...