Sep 12, 2016 · 1 min read

हमारी हिंदी

नानक कबीर सूर तुलसी बिहारी मीरा
जायसी रहीम रसखान की ये भाषा है
राजकाज सकल समाज की ये वाणी और
भारत के ज्ञान-विज्ञान की ये भाषा है
क्यों न परभाषा की अधीनता को छोड़ें जब
राष्ट्र के आत्मसम्मान की ये भाषा है
नागरी के अक्षर क्षितिज पे उकेर चलें
विश्व देखे भारत महान की ये भाषा है

192 Views
You may also like:
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
पापा
Kanchan Khanna
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...