Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 16, 2022 · 1 min read

“हमारी यारी वही है पुरानी”

मिलन मुलाक़ात होती है खास
कई दिन कई महीनो के बाद
अचानक से मिले जो अपने यार
फिर… क्या कहेना होती हैं जी भरके बात…!!
कितनी यादों की सरगम आँखों के सामने
हो जाती है तरोताज़ा…!!
उमंग की कई रंगीनियाँ
मन आँगन में खिलाये उल्लास की कई कलियाँ..!!
रहरहकर सारी बातें दोहराई जाती….
वक्त कब कैसे कितना गुजर गया क्या पता
यारों की यारी में कुछ भी नहीं याद रहता…!!
कितने हसीन थे वो लम्हे क्यों… चले गए यारा
समय संजोग परिस्थितियाँ सब बदल गया…!..!..!
यारों.. हम भी बिछड़ गए…!..!..!
पर.. हां गम नहीं सब कुछ बदला भले यारा
लेकिन…. हमारी यारी वही है पुरानी
हैं बेहद खुशी…. यारों हमें इस बात की ….!!!!

178 Views
You may also like:
किसी का जला मकान है।
Taj Mohammad
*दो बूढ़े माँ बाप (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा
Nitu Sah
आग का दरिया।
Taj Mohammad
पिता की याद
Meenakshi Nagar
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हम जिधर जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
" REAL APPLICATION OF PUNCTUALITY "
DrLakshman Jha Parimal
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
अब तेरा इंतज़ार न रहा
Anamika Singh
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
आपतो हो सुकून आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
एकाकीपन
Rekha Drolia
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
तरबूज का हाल
श्री रमण 'श्रीपद्'
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
Loading...