Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 19, 2016 · 1 min read

हमारा हुआ

कभी क्यों न कोई हमारा हुआ है
जहाँ में न मेरा जमाना हुआ है

भरोसा नहीं हो रहा आज हमको
मुझे आज शायद ये धोखा हुआ है

बहुत प्यार उसको दिया था उसे जब
तभी तो हमें दिल दुखाया हुआ है

चले जो गये रूठ कर आप हम से
चले लौट आना ही सपना हुआ है

जमीं से जो चले गये है सदा को
यहाँ पर न वापस ठहरना हुआ है

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 2 Comments · 218 Views
You may also like:
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
O brave soldiers.
Taj Mohammad
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
कुछ काम करो
Anamika Singh
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राफेल विमान
jaswant Lakhara
बदरिया
Dhirendra Panchal
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
पंचशील गीत
Buddha Prakash
वो आवाज
Mahendra Rai
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
Loading...