Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-254💐

हमारा सब खराब गया आज तक सदक़े होना,
नाज़ होना, तमाम होना और सुख़न-साज़ होना।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Quote Writer
26 Views
You may also like:
माँ महागौरी
माँ महागौरी
Vandana Namdev
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
कहानी
कहानी
Pakhi Jain
अशोक महान
अशोक महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली की मुबारकबाद
होली की मुबारकबाद
Shekhar Chandra Mitra
मैं तुझमें तू मुझमें
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दाना
दाना
Satish Srijan
सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया
सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया
Shyam Hardaha
मेरी परछाई बस मेरी निकली
मेरी परछाई बस मेरी निकली
Dr fauzia Naseem shad
■ आलेख / सामयिक चिंतन
■ आलेख / सामयिक चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
उनसे  बिछड़ कर
उनसे बिछड़ कर
श्याम सिंह बिष्ट
अफसोस
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ख्वाहिशों का टूटता हुआ मंजर....
ख्वाहिशों का टूटता हुआ मंजर....
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
हम मुहब्बत कर रहे थे
हम मुहब्बत कर रहे थे
shabina. Naaz
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए...
Taj Mohammad
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
💐प्रेम कौतुक-440💐
💐प्रेम कौतुक-440💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुध्द गीत
बुध्द गीत
Buddha Prakash
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
*वसंत 【कुंडलिया】*
*वसंत 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
✍️आहट
✍️आहट
'अशांत' शेखर
आरंभ
आरंभ
श्री रमण 'श्रीपद्'
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️
अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️
Rohit yadav
Loading...