Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2017 · 1 min read

हमारा शरीर भी प्रकृति का मिश्रण है।

हमारा शरीर भी प्रकृति का मिश्रण है।
वायु,अग्नि,जल आकाश,मिट्टी का सम्मिश्रण है।
खुद से तो प्यार किया है तो
अब प्रकृति से भी प्यार करो।
स्वार्थ के लिए ना प्रकृति को
तुम दरकिनार करो ।
अगर प्रकृति को नष्ट किया तो ,
पृथ्वी के सब जीवो को नुकसान है ।
हम सब है प्रकृति का मिश्रण है ।
प्रकृति ही हमारी जान है।।।

भूपेंद्र रावत
10।09।2017

2 Likes · 158 Views
You may also like:
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
धन्य है पिता
Anil Kumar
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
पिता
Kanchan Khanna
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Ram Krishan Rastogi
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
Loading...