Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

हमारा देश भारत

* हमारा देश भारत *
~~
बढ़ रहा स्वर्णिम लिए आभा हमारा देश भारत।
शक्तिशाली है अखिल जग का सहारा देश भारत।

वेद उपनिषदों का सबको ज्ञान मिलता है यहां पर।
सर्वहित में ज्ञान का सागर छलकता है यहां पर।
है यही क्रम देशभर में नित्य ही अविरल प्रवाहित।
सृष्टि की कल्याणकारी शक्ति है इसमें समाहित।
विश्व नभ का है चमकता प्रिय सितारा देश भारत।
बढ़ रहा स्वर्णिम लिए……

देवियों की देवताओं की सुपावन कर्म भू यह।
ज्ञान गीता का सुनाती है सभी को धर्म भू यह।
देखता संसार हमको आज भी मुश्किल समय में।
स्नेह सागर है छलकता भावना भर हर हृदय में।
दिव्य दृष्टि प्राप्त ऋषियों ने निहारा देश भारत।
बढ़ रहा स्वर्णिम लिए…..

है सुपावन हिम शिखर कैलाश शिव का धाम अनुपम।
गीत कल-कल गा रही नदियां अहर्निश स्नेह सरगम।
आ रहा है भव्यता से लौट फिर वैभव पुराना।
देशवासी चाहते हैं कुछ नया कर के दिखाना।
पुण्यदायी शारदे मां का दुलारा देश भारत।
बढ़ रहा स्वर्णिम लिए……

शौर्य का इतिहास अपना त्याग गौरवमय लिए है।
देशहित बलिदान की गाथा हृदय झंकृत किए है।
हैं अहर्निश राष्ट्र रक्षा में जुटे सैनिक हमारे।
दाँव पर जीवन लगाते भारती के पुत्र प्यारे।
प्राण से बढ़कर सभी को नित्य प्यारा देश भारत।
बढ़ रहा स्वर्णिम लिए……
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य।
मण्डी (हिमाचल प्रदेश)

2 Likes · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
अब मैं
अब मैं
gurudeenverma198
उसको बता दो।
उसको बता दो।
Taj Mohammad
THE GREAT BUTTER THIEF
THE GREAT BUTTER THIEF
Satish Srijan
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लुटेरों का सरदार
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Revenge shayari
Revenge shayari
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जो नहीं दिखते वो दर्द होते हैं
जो नहीं दिखते वो दर्द होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
■ बिल्कुल ताज़ा...
■ बिल्कुल ताज़ा...
*Author प्रणय प्रभात*
तू कहता क्यों नहीं
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पत्ते
पत्ते
Saraswati Bajpai
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
कुछ तो है उनके प्यार में
कुछ तो है उनके प्यार में
Buddha Prakash
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शायरी
शायरी
goutam shaw
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम चली गई
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
उलझन ज़रूरी है🖇️
उलझन ज़रूरी है🖇️
Skanda Joshi
शहीद की आत्मा
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
💐प्रेम कौतुक-369💐
💐प्रेम कौतुक-369💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Nishant prakhar
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नव दीपोत्सव कामना
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...