Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 23, 2017 · 1 min read

:::#::: हमने यह सीखा फूलों से :::#:::

फूल-फूल तुम कितने प्यारे,
देख तुम्हें मन होता पुलकित।
रंग तुम्हारे हैं चटकीले,
सबको करते हैं प्रफुल्लित।
मुग्ध मगन खुश कर देती,
मधुर तुम्हारी गंध सुवासित।
उदास और दुखी मन को भी,
तुम कर देते हो प्रसन्नचित्त।
कांटों के संग-संग रहकर भी,
तुम झूमते रहते आनंदित।
हर रूप हर आकार तुम्हारा,
देख-देख मन है रोमांचित।
तुम देते हमको यह सीख,
करते हमें इस बात से शिक्षित।
सुख या दुख कोई भी हाल हो,
रहो मेरी तरह मुदित उल्लासित।

—रंजना माथुर दिनांक 23/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

236 Views
You may also like:
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
झूला सजा दो
Buddha Prakash
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पिता
Deepali Kalra
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...