Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 9, 2022 · 1 min read

हमने प्यार को छोड़ दिया है

जबसे दिल तुने तोड़ दिया है
हमने प्यार को छोड़ दिया है

जब तक तुमने प्रीत निभाई
मैंने भी हर पल रीत‌ निभाई
जब तुने दामन छोड़ दिया है
हमने प्यार ………….
जाने वाले तो लौट आते हैं
पर तेरी सब झूठी बातें हैं
तूने भरोसा यूं तोड़ दिया है
हमने प्यार…………
फ़िक्र नहीं जब तुझको मेरी
हम क्यों रोएं यादों में तेरी
ग़म करना ही छोड़ दिया है
हमने प्यार ………….
“विनोद”को धोखा देने वाले
तेरे भी दिन आएंगे काले
जो तुने तन्हां छोड़ दिया है
हमने प्यार…………..

1 Like · 64 Views
You may also like:
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️हम सब है भाई भाई✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
"अशांत" शेखर
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
✍️पत्थर✍️
"अशांत" शेखर
गुणगान क्यों
spshukla09179
Loading...