Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 17, 2022 · 1 min read

हमको समझ ना पाए।

हमनें कभी समझाने की,
कोशिश ना की…!!
और तुम भी कभी खुदसे,
हमको समझ ना पाए…!!
गलतफहमियां देखो,
दरम्यां कितनी हो गई हैं…!!
कभी दो जिस्म,
एक जान थी जो जिदागियां…
आज फिर से दो जान…
दो जिस्म हो गई हैं…!!

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 168 Views
You may also like:
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पिता
Buddha Prakash
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दहेज़
आकाश महेशपुरी
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
अनामिका के विचार
Anamika Singh
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...