Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

हमको चलना होगा…

?? हमको चलना होगा। ??

अभिलाषाओं के नव-पथ पर, अब हमको चलना होगा।
आलोकित करने जग-जीवन, दीपक सम जलना होगा।
विकट हवाएँ मग रोकेंगी, पर देखो! मत घबराना।
साथ समय के चलते रहना, स्थिति में ढलना होगा।

माँ की गोद न घर का सुख हो, पापा का बल-ना होगा।
कर्कश परिमण्डल में भोजन, वसुधा का पलना होगा।
कर की रेख बदलने हेतु, यह पुरुषार्थ जरूरी है।
अब तक हमको छला भाग्य ने, ‘भाग्य हमें छलना होगा।’

हो भी गर विपरीत परिस्थिति, अन्न सहित जल-ना होगा।
‘तेज’ धूप की गरम कड़ाही, में हमको तलना होगा।
नाम हमारा याद रखेगी, ये दुनियां युग-अंतर तक।
सपनों में रंग भरना है तो, ‘चल-अविरल चलना होगा।’

??????????
?तेज✏मथुरा✍

193 Views
You may also like:
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बाबू जी
Anoop Sonsi
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Saraswati Bajpai
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
बोझ
आकांक्षा राय
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
Loading...