Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2021 · 1 min read

हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं

ख्वाबों में आने वाले ख्वाब हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं,
स्वप्न में ही कट जाती है रात सरल रात भर सोता क्यों नहीं ।
कर्म के पायदान पर इस तरह कच्चे खड़े हैं हम अभी ,
खुदा को यू कोसना गलत है ख्वाब पूरा होता क्यों नहीं ।।

✍कवि दीपक सरल

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 263 Views
You may also like:
बेटी बचाओ
बेटी बचाओ
Shekhar Chandra Mitra
माँ की गोद में
माँ की गोद में
Surya Barman
💐प्रेम कौतुक-236💐
💐प्रेम कौतुक-236💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ ग़ज़ल / बात है साहब...!!
■ ग़ज़ल / बात है साहब...!!
*Author प्रणय प्रभात*
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
Dr Archana Gupta
तन्मय
तन्मय
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कुछ बातें जो अनकही हैं...
कुछ बातें जो अनकही हैं...
अमित कुमार
भीड़
भीड़
Shyam Sundar Subramanian
भुनेश्वर सिन्हा द्वारा संकलित गिरीश भईया फैंस कल्ब के वार्षिक कैलेंडर का किया गया विमोचन
भुनेश्वर सिन्हा द्वारा संकलित गिरीश भईया फैंस कल्ब के वार्षिक...
Bramhastra sahityapedia
कौन हिसाब रखे
कौन हिसाब रखे
Surinder blackpen
अब अरमान दिल में है
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
✍️संस्कारो से सादगी तक
✍️संस्कारो से सादगी तक
'अशांत' शेखर
तिरंगा
तिरंगा
Satish Srijan
माँ शैलपुत्री
माँ शैलपुत्री
Vandana Namdev
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोष दृष्टि क्या है ?
दोष दृष्टि क्या है ?
Shivkumar Bilagrami
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
Abdul Raqueeb Nomani
*तितली आई 【बाल कविता】*
*तितली आई 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
हम मुस्कुराकर बड़े ही शौक से दे देंगे।
हम मुस्कुराकर बड़े ही शौक से दे देंगे।
Taj Mohammad
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"नहीं मिलता"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
सट्टेबाज़ों से
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
बैठा ड्योढ़ी साँझ की, सोच रहा आदित्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
Loading...