Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 29, 2022 · 1 min read

हक़ीक़त न पूछिए

हक़ीक़त न पूछिए
मुफलिसी के दर्द की।
नींदों में जिसको ख्वाब का
बस आसरा मिला ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

5 Likes · 32 Views
You may also like:
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
ईद
Khushboo Khatoon
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)
पूनम झा 'प्रथमा'
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
तुम रहने दो -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
'अशांत' शेखर
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
💐परमात्मा एव संसार-रूपेण प्रकट: भवति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
✍️गुलिस्ताँ सरज़मी के बंदिश में है✍️
'अशांत' शेखर
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी बेटी
Anamika Singh
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
*कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
कुमार अविनाश केसर
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
पापा
सेजल गोस्वामी
Loading...