Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-506💐

हक़ीक़त अपने दिल की सब बता दी गई,
मुक़र्रर जुस्तजू भी उनसे आज़मा ली गई,
कोई कसर कहाँ रही बता दीजिएगा हमें,
फिर वीरानगी की क्यों हमें सज़ा दी गई।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
वक्त और दिन
वक्त और दिन
DESH RAJ
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
Rajesh vyas
मैं हूं आदिवासी
मैं हूं आदिवासी
नेताम आर सी
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
सफर
सफर
Anamika Singh
🌺🌸ग़नीमत रही मैं मिला नहीं तुमसे🌸🌺
🌺🌸ग़नीमत रही मैं मिला नहीं तुमसे🌸🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रक्त को उबाल दो
रक्त को उबाल दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
लोग हमसे ख़फा खफ़ा रहे
Surinder blackpen
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
श्याम सिंह बिष्ट
हकीकत  पर  तो  इख्तियार  है
हकीकत पर तो इख्तियार है
shabina. Naaz
दर्द दीवानी मीरा
दर्द दीवानी मीरा
Shekhar Chandra Mitra
खेसारी लाल बानी
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
असीम जिंदगी...
असीम जिंदगी...
मनोज कर्ण
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
*फेसबुक-बीमारी(बाल कविता)*
*फेसबुक-बीमारी(बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्याकको ह्याङ्गओभर
प्याकको ह्याङ्गओभर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सोच की निर्बलता
सोच की निर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
जानें क्यूं।
जानें क्यूं।
Taj Mohammad
ईश्वरतत्वीय वरदान
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
करता कौन जाने
करता कौन जाने
Varun Singh Gautam
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
2510.पूर्णिका
2510.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुझसे रूबरू होकर,
तुझसे रूबरू होकर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
.✍️साथीला तूच हवे✍️
.✍️साथीला तूच हवे✍️
'अशांत' शेखर
Loading...