Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हँसता चेहरा

✒️?जीवन की पाठशाला ??️

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की इस कलयुग में संपन्न होने और सुखी रहने का एक ही फार्मूला -जी हुजूरी -यस बॉस -स्वार्थी होना -बेपरवाह होना -दोहरे चेहरे रखना एवं बेशर्म हो जाना …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की हर हँसता चेहरा अंदर से खुश हो ये जरुरी नहीं ,हर पैसे वाला या संपन्न दिल के मायनों में -रिश्तों में अक्सर गरीब ही होता है …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की अमूमन 99% हर इंसान अपनी बीवी -अपनी नौकरी -व्यापार से असतुंष्ट होता है ,अक्सर उसे सामने वाले की तकदीर ही सही लगती है …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की जो व्यक्ति जितनी जल्दी आपके साथ अपनापन दर्शाता है ,उससे कहीं जल्दी वो अपना परायापन और अपनी औकात दिखा देता है ,इसलिए बहुत सावधानी के साथ हाथ मिलाइये …

बाक़ी कल , अपनी दुआओं में याद रखियेगा ?सावधान रहिये-सुरक्षित रहिये ,अपना और अपनों का ध्यान रखिये ,संकट अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क ? है जरुरी …!
?सुप्रभात?
?? विकास शर्मा “शिवाया”?
???
⚛️?☸️??

1 Like · 221 Views
You may also like:
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
फूल कोई।
Taj Mohammad
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
'अशांत' शेखर
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
तिरंगा
Pakhi Jain
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
तेरी रहबरी जहां में अच्छी लगे।
Taj Mohammad
अप्सरा
Nafa writer
✍️धुप में है साया✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐💐मृत्यु: प्रतिक्षणं समया आगच्छति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूख
Varun Singh Gautam
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
याद भी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
दुआ पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
न कोई चाहत
Ray's Gupta
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...