Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

सड़क,बंधुआ मजदूर और भगवान

सड़क,बंधुआ मजदूर और भगवान

अक्सर
रात को
मैँ शहर मेँ घूमता हूँ
काली, पसरी और
गढ्रढेदार सड़क
देखकर
मुझे अहसास होता है
किसी बंधुआ मजदूर का
जो दिनभर की थकन
उतारने के लिए
पसर गया हो
और
मालिक की तरह
भौंकते हुए कुत्ते
उसकी नीँद मेँ
खलल डाल रहे होँ
सड़क के दोनोँ ओर
फुटपाथ पर
बच्चोँ को सोया देख
मुझे याद आता है
बच्चे भगवान होते हैँ
मैँ सोचता हूं
भगवान का स्थान
क्या फुटपाथ पर होता है

डॉ मनोज रस्तोगी
8,जीलाल स्ट्रीट
मुरादाबाद 244001
उत्तर प्रदेश, भारत
मोबाइल फोन नंबर 9456687822

1 Comment · 220 Views
You may also like:
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Aruna Dogra Sharma
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
मन
शेख़ जाफ़र खान
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...