Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2022 · 1 min read

स्वार्थ

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की रिश्तों में यहाँ हर किसी को हक़ जमाना तो बखूबी आता है पर दिल से -आत्मीयता से रिश्ता निभाना नहीं आता …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की क्या वाकई समय सारे घाव भर देता है या एक समय पर आप अंदर से इतने सहनशील हो जाते हो की उन दर्दों के साथ रहने की आपकी आदत बन जाती है …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की किसी का बड़े घर का होना और किसी का घर में बड़ा होना जमीन आसमान का फ़र्क़ है …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की इस दुनियादारी में कोई किसी का नहीं होता ,किसी के बिना दुनिया रूकती /थमती नहीं ,बस सब होते हैं तो अपने अपने स्वार्थ के …!

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ….सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ….!
🙏सुप्रभात 🌹
आपका दिन शुभ हो
विकास शर्मा'”शिवाया”
🔱जयपुर -राजस्थान 🔱

49 Views
You may also like:
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते
Saraswati Bajpai
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
यादें
Sidhant Sharma
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
"अशांत" शेखर
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
"मेरे पापा "
Usha Sharma
Loading...