Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 18, 2017 · 1 min read

स्वार्थी

कौन कहता है कि
वह स्वार्थी नहीं,
मुझसे पूछो अगर
मैं कहूंगा तुमसे
संसार में रहने वाले
हर एक है स्वार्थी,
ममता के लिए अगर
माँ-बाप बनते कोई
तो कोई वारिस के लिए
संतान जन्म देते है,
धर्म या सम्मान हेतु
कोई संतान माँ-बाप की
सेवा करते है तो कोई
धन-दौलत के लिए करते है,
सम्मान के लिए कोई
गुरु बनते है तो कोई
सिर्फ व्यवसाय के लिए बनते है,
इल्म पाने के लिए कोई
शिष्य बनता है तो कोई
ऊंची स्थान प्राप्त करने के लिए,
ठीक उसी तरह पशु-पक्षी भी
एक दूसरे को मारकर जिंदा रहते है,
स्वार्थ हर जगह है जग में
स्वार्थी यहाँ हर कोई है ,
फिर क्यों हम आगबबूला
हो उठते है जब भी कोई
हमें स्वार्थी कहकर बुलाते है?

506 Views
You may also like:
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Dr. Kishan Karigar
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कशमकश
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...