Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 8, 2017 · 1 min read

*स्वार्थी मानव*

स्वार्थ मे जन्न्मा स्वार्थी मे पनपा स्वार्थ से उसका नाता है। बिन स्वार्थ के कैसे जीये
उसको यह नही भाताहै॥ छुदा के खाती स्वार्थ मे रोया , स्वार्थ मे वह मुस्काता है स्वार्थ की राहो पे चल करके अपनो को भरमाता है॥ पौढ हुआ स्वार्थ की दुनियॉ मे स्वार्थ ही पिता माता है । हित मित साथी रिस्तेदार को स्वार्थ मे नाच नचाता है ॥ अपना बन जाय गैर का बिगणे स्वार्थ मे अन्धा बन जाता है। स्वार्थ मे जीते-जीते एक दिन अपनो से नजर चुराता है ॥ विखर गया सारी दुनिया जब स्वार्थ मे वह पश्चाता है । सारी दुनिया जान गई यह स्वार्थी मानव कहलाता है ॥

रचनाकार_-विजय कुमार शाहनी
विधा-कविता

893 Views
You may also like:
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
पल
sangeeta beniwal
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...