Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2022 · 2 min read

स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था

स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
साहस त्याग और बलिदान से, अंग्रेजी शासन थर्राया था
रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों पर,ऐंसी तलवार चलाई थी
अंग्रेजी तोप और बंदूकों ने, अपने मुंह की खाई थी
अंतिम समय घिर गई थी रानी, अंग्रेजों के हाथ न आईं थीं
अपने ही हाथों एक कुटिया में, वीरांगना ने आग लगाई थी
वीरांगना झलकारी बाई ने, ब्रिटिश सेना को बहुत छकाया था
लक्ष्मी बाई की हम कदम थीं वो, छठी का दूध याद दिलाया था
रामगढ़ रानी अवंती बाई ने,अपना जौहर दिखलाया था
टिक न सके तलबार के आगे, अंग्रेज घुटनों पर आया था
मांग रहा था प्राणों की भीख,धोखे से उनको मरवाया था
जीते जी वो हाथ न आईं, स्वयं प्राणों को भेंट चढ़ाया था
रानी चेनम्मा, रानी बेलु नाचियार के, शौर्य की एक कहानी है
रानी शिरोमणि, रानी इश्वरी कुमारी और देवी चौधरानी हैं
हज़रत महल, माता स्वरूप रानी,अरुणा आसफ अली, सुचेता कृपलानी
हर एक के योगदान की, अलग है एक कहानी
ननीबाला, पार्वती देवी,प़फुल्ल नलिनी,मणिवेन
माया घोष,सरला देवी, सावित्री देवी, मृदुला वेन
बीना दास, प्रीतलता,उज्वला मजुमदार, कल्पना दत्ता
रेणु सेन,चारुशिला देवी, टुकड़ी बाला, मीरा दत्ता
लड़ी सुहासिनी, शोभा रानी,वनलतादास
शांति घोष,सुनीति चौधरी,जानकी, देवी बजाज
मैडम भीखाजी कामा, दुर्गा बाई देशमुख ने किए काज
सुशीला दीदी, लक्ष्मी सहगल, निकल पड़ी थीं छोड़ सब लाज
लड़ी अजीजन बाई, पुरुष वेश में लड़ती थीं
अंग्रेजों की गुप्त सूचनाएं,क़ांतिकारियों को देतीं थीं
राजकुमारी अमृत कौर,उन नायिकाओं में शामिल हैं
स्वतंत्रता के लिए संघर्ष और,नव निर्माण का जन जन कायल है
नागालैंड में एक चिंगारी, रानी गाइडिन्ल्यू के रूप में चमकी थी
१३बर्ष की उम्र में युद्ध किया, अंग्रेजी सेना पराजित कर दी थी
प्रसिद्ध क्रांतिकारी दुर्गा भाभी,जिनने क़ांतिवीरों का साथ दिया
आजाद भगतसिंह राजगुरु, मरते दम तक साथ दिया
नाम अनाम मातृ शक्ति ने,किए न्यौछावर प्राण थे
मातृभूमि की वलिवेदी पर, अपने किए सपूत वलिदान थे
आजादी के अमृत महोत्सव पर, ढेरों उन्हें प्रणाम हैं
स्वतंत्रता आंदोलन में मातृशक्ति का बहुमूल्य योगदान हैं
जय हिन्द वन्देमातरम।

Language: Hindi
Tag: कविता
5 Likes · 4 Comments · 181 Views

Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी

You may also like:
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आनी इक दिन मौत है।
आनी इक दिन मौत है।
Taj Mohammad
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
अनूप अम्बर
***
*** " नदी तट पर मैं आवारा..!!! " ***
VEDANTA PATEL
शौक मर गए सब !
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरी आंखों में ख़्वाब
मेरी आंखों में ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
मीडिया का भरोसा
मीडिया का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
सच यह गीत मैंने लिखा है
सच यह गीत मैंने लिखा है
gurudeenverma198
अभी अभी की बात है
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
शीत ऋतु
शीत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
लोगबाग जो संग गायेंगे होली में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घर आवाज़ लगाता है
घर आवाज़ लगाता है
Surinder blackpen
अभी तक न विफलता है ,अभी तक न सफलता है (मुक्तक)
अभी तक न विफलता है ,अभी तक न सफलता है...
Ravi Prakash
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला अब क़िस्मत, से टकराने लगा है।
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
दोहा-*
दोहा-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हरि चंदन बन जाये मिट्टी
हरि चंदन बन जाये मिट्टी
Dr. Sunita Singh
छठ महापर्व
छठ महापर्व
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Dr. Girish Chandra Agarwal
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
नजर
नजर
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
घर का ठूठ2
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
'अशांत' शेखर
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-295💐
💐प्रेम कौतुक-295💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
■ कृतज्ञ राष्ट्र...
*Author प्रणय प्रभात*
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...